TYPES OF SHARE CAPITAL IN HINDI

TYPES OF SHARE CAPITAL (शेयर कैपिटल की जानकारी हिंदी में )

जानिएshare capital किसे कहते है और share capital कितने प्रकार के होते है ( Authorized capital,Issued,Called-up कैपिटल,Paid-up कैपिटल, Security Premium, Share Issued at Par , Share Issued at Premium capital,Subscribed capital).

thorized capital:

Authorized capital वह पूंजी है जिसे कंपनी पब्लिक के लिए शेयर जारी करके इक्कट्ठा करती है |

  • यह वह पूंजी (amount of capital) है, जिससे एक कंपनी रजिस्टर्ड होती है |
  • यह वह अधिकतम पूंजी (amount of capital) है जहा तक, एक कंपनी पब्लिक से शेयर देकर पैसे ले सकती है | कंपनी पब्लिक से इस(Authorized capital) अमाउंट से ज्यादा पैसे नही ले सकती है |
  • Authorized capital को registered capital or nominal capital भी कहते है |

मान लीजिये किसी  कंपनी की अधिकतम capital इश्यू करने की लिमिट 20,00,000  इक्विटी शेयर है और उसकी फेस वैल्यू 10 रूपये है, तो कंपनी की Authorized capital 20,00,000 *10 (INR 2,00,00,000) होगी |

Issued capital:

  • Authorised capital का वो भाग जिसे कोई कंपनी निवेशको के लिए शेयर के रूप में जारी करती है | Issued capital कहलाता है | authorised capital और issued capital का अंतर यह दर्शाता है कि कंपनी मेमोरेंडम के तहत कितने शेयर इश्यू कर सकती है | issued capital अधिकतर मामलों में कम ही रखा जाता है, क्योंकि कंपनी एक बार में ही अपनी सारी पूंजी (authorised capital) को ख़त्म नही करना चाहती है |
  • मान लीजिये कंपनी का subscribed capital 10,00,000 इक्विटी शेयर्स है और उसे बिज़नेस के विस्तार लिए INR 1,00,00,000 रूपये की जरुरत है इस केस में कंपनी 10 रूपये फेस वैल्यू के 10,00,000 इक्विटी शेयर्स(10,00,000 *10) मार्किट मै इशू करती है | जिसे Issued capital कहा जाता है |

(share capital)

Subscribed capital:

यह Issued capital  का वो भाग होता है जिसके लिए निवेशक Subscribe करते है | जब issue किये गये सभी शेयर निवेशकों द्वारा खरीद लिए जाते है तब issue और subscribed capital समान होंगे |

  • Subscribed capital वह पूंजी ( amount of capital) है जिसके लिए कंपनी को पब्लिक से application प्राप्त होती है |
  • Subscription वह  application है जिसमें इच्छुक निवेशक उस कंपनी के शेयर्स खरीदने में रूचि दिखाता है |
  • Generally उतने ही शेयर्स के लिए application आते है जितने शेयर्स के लिए कंपनी ने application मांगे हैं |
  • लेकिन कुछ मामलों मै जितने शेयर्स के लिए कंपनी ने Application मंगवाए है उससे ज्यादा आ जाती हैं | इसे Over subscription कहते है | ऐसा इसलिए होता है क्यूंकि  कंपनी की आर्थिक स्तिथि बहुत अच्छी होती है |
  • यदि कंपनी की आर्थिक स्तिथि ठीक नही है तो पब्लिक उस शेयर के लिए कम Apply करते है | इसे Under subscription कहा जाता है |

Subscribed capital को उदहारण के जरिये समझने की कोशिश करते है मान लीजिये किसी कंपनी ने 10,00,000 शेयर 10 रूपये face value के पब्लिक के लिए जारी किये यदि उसमे से सारे शेयर निवेशकों द्वारा खरीद लिए जाते है जाता है तो इसे subscribed issue कहेंगे |

Called-up capital:

  • यह face value का वो हिस्सा है पूंजी जो कि कंपनी द्वारा निवेशकों से मांगी जाती है | इसे इस तरह से समझते हैं – माना किसी कंपनी की face value rs.10/- है और कंपनी ने at the time of application निवेशकों से Rs. 3/- और allotment पर Rs.5/- मांगे है तो टोटल called-up capital Rs.8/-(10,00,000 *8=80,00,000) per शेयर हुई |

Paid-up capital:

  • यह called-up capital वो हिस्सा है जो की निवेशकों द्वारा कंपनी को pay किया गया है | called-up capital वाले example को जारी रखते है माना निवेशकों ने called-up capital का पूरा हिस्सा(application money Rs.3/ और allotment money Rs.5/-) pay किया है | तो Paid-up capital Rs.8/- होगा |
  • The amount of capital (out of called-up capital) against which the company has received the payments from the shareholders so far.

Solution:
Authorized capital = Rs. 20,000,000
Subscribed capital = 1,000,000 x Rs. 10 = Rs. 10,000,000
Issued capital = 1,000,000 x Rs.10 = Rs.10 ,000,000
Called-up capital = 800,000 x Rs. 8 = Rs. 6,400,000
Paid-up capital = 800,000 –  x Rs. 8  = Rs. 6,400,000

यह भी पढ़ें :

फेस वैल्यू किसे कहते हैं

कैपिटल गेन क्या है

IPO DEFINITION IN HINDI

Shares क्यों जारी किये जाते हैं?

COMPANY DIVIDEND कब और क्यों देती है         

Security Premium

  • यह वो amount होता है जो above the face value एक निवेशक pay करता है | यह इसलिए होता है क्युकि जिस कंपनी की आर्थिक स्तिथि मजबूत होती है वो अपने शेयर्स के लिए subscriber से एक्स्ट्रा पैसे चार्ज करती है |
  • ABC ltd. ने पब्लिक के लिए Rs.230/- के हिसाब से शेयर इश्यू किये जिसकी फेस वैल्यू Rs.10/- है | इस केस मै Rs.220/- Security Premium होगा |

Share Issued at Par 

  • इस केस में जो issue price होता है, वह फेस वैल्यू के बराबर होता है | यानि जब किसी शेयर की कीमत उसकी फेस वैल्यू के बराबर होती है तब वह शेयर at par कहलाता है |
  • For Example – एक कंपनी के शेयर की फेस वैल्यू Rs.10/- है, और उसने जब IPO निकाला तो इशू प्राइस भी Rs.10/- ही रखा, इस केस में कंपनी ने निवेशकों से Security Premium नही लिया |

Share Issued at Premium 

  • इस केस में जो इशू प्राइस होता है वह फेस वैल्यू से ज्यादा होता है | यानि जब किसी कंपनी के शेयर का इशू प्राइस फेस वैल्यू से ज्यादा होता है तो उसे issued at premium कहते है |
  • Example- यदि शेयर का issue price Rs.150 है और फेस वैल्यू Rs.10/- है, तो इसे Share Issued At premium कहेंगे क्यूंकि इसमें Rs.140/- Security Premium है |

Comments

  1. Reply

  2. By People Barun Kumar

    Reply

  3. By Gaurav

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!